Saturday, April 06, 2013

ये वक्‍त ये दौर बेवफ़ा है


ये वक्‍त ये दौर बेवफ़ा है, तेरी तरह मेरी तरह
हाथ छुडा कर चल दिया, तेरी तरह मेरी तरह

मलाजे तलाश थी जिंदगी, फिरते रहे दरबदर
हरपल रूप बदलता रहा, तेरी तरह मेरी तरह
ये वक्‍त ये दौर बेवफ़ा है, तेरी तरह मेरी तरह.....

पास अपनें सब ही था मगर, जाने किसकी तलाश थी
हरपल क्‍यू मचलता रहा, तेरी तरह मेरी तरह
ये वक्‍त ये दौर बेवफ़ा है, तेरी तरह मेरी तरह.....

तेरे मेरे अजिब शौक नें, फूंक दिया घर ये फ़राज़
गैर भी हाथ सेंकने लगे, तेरी तरह मेरी तरह
ये वक्‍त ये दौर बेवफ़ा है, तेरी तरह मेरी तरह.....
राहुल उज्‍जैनकर फ़राज़

No comments:

Post a Comment