Wednesday, April 15, 2015

तुझपे फनां होनें की ख्वाहिश

मेरे लबों का तेरे लबों से मिलना ,मुमकिन हो जाए,काश ।
किसी रोज़ तू मेहरबाँ होके, मेरे पहलु में आ जाये ।

इस कदर पियूँ ,मय तेरे लबों से दिलबर मेरे ।
के फिर सारी उम्र को ये नशा , तारी रह जाए ।

किसी रोज़ समेटलो हमें अपनी बाहों में, इसकदर ।
के, तेरी मरमरी बाहें , बस मेरी ज़ागीर हो जाए ।

मत कर लिहाज़ जमाने का, बस अपने दिल की कर ।
एक रात में तेरी मेरी, बसर पूरी ज़िन्दगी हो जाए ।

इस दीवाने की है आखरी ख्वाहिश, तुझपे फनां होना ।
काश के फ़राज़ तेरी ये बंदगी, कभी क़ुबूल हो जाए ।
©®राहुल फ़राज़