Saturday, October 15, 2011

काही भावना असतात ज्या पोहचवू शकत नाही....इच्छा असून बरेच काही बोलू शकत नाही....असे एक ना अनेक बरेच अनूभव
प्रत्येकालाच आले असतील....फरक एवढाच असेल...."koi kahata hai koi chupata hai.....

आयुष्याला fullstop लागायच्या आधी
काहीतरी करून दाखवायचय,
लाखोन्च्या गर्दीत स्वतःसाठी
'red carpet' बनवायचय !!

आयुष्याला fullstop लागायच्या आधी
काहीतरी करून दाखवायचय,
आरशासमोर उभ राहून
नजर वर करून 'त्याला' बघायचय,
ताठ मानेनेच 'त्या' समोरच्याला विचारायचय,
तू फ़क्त बोल,अजून कोणत क्षितिज गाठायचय!!

आयुष्याला fullstop लागायच्या आधी
काहीतरी करून दाखवायचय,
सर्वान्च्या मनात एक छोटस
घर करून राहायचय,
माझ्या नुसत्या आठवणीन्तूनच
दुःखी मनान्ना हसवायचय,
एकदा का fullstop लागला
की आठवणीन्तूनच मला पुन्हा जगायचय!!

Saturday, August 06, 2011

sub say chup kar mila karo

kabhi dastaras mai jo waqt ho to tamam batain kaha karo
koi atay jatay na dekh lay, humay sub say chup kar mila karo

koi tum bhi taza sitam karo, yehi dard apna naseeb hai
nahi kuch gila, mujhay zakhm dou, kaha kis nay tum say wafa karo

meri jaan suno! zara ghoor say tumhay kah rahi hai ye chandani
chalay jub hawa sar-e-sham hi, to udaas yuu na huwa karo

ye tumharay honto'on par khamshi ka sakoot bhi to bhala nahi
kay tumhara lehja hai khusboo'n sa, gulaab bun kar khila karo

meray rabt say bhi ho munha'rif, meray naam say hi guraiz kyu?
chiray zikar jub bhi chah ka, zara hoslay say suna karo

ye kaha to tha mai nay barha, tumhay yaad hai kisi mour par
kay tum hi to ho meri zindagi, mujhay khud say yuu na juda karo

meray pass jitna nisaab hai inhi chahtoo'n ka hissab hai
ye tumharay gham ki kitaab hai isay dehaan say to parha karo

raho khush tabasm tum sada, mujhay chor dou meray haal par
mujhay ab talash-e-wafa nahi meray wastay na dua karo

Friday, August 05, 2011

ye aana jana theek nahin

Ek jabr hai ab ahsaas-e-wafa bhi ye dil me basana theek nahin
Ab saaz-e-dil afsurdah per, is geet ko gana theek nahin

Tum bhool chuke ye sab behtar ,tum chor chale ye aur acha
Khwabon mein mager majbooron ke ye aana jana theek nahin

Keh do ke nahin hum mil sakte, keh do ke koi majboori hai
Lekin ye labon tak la la ker, baton ko chupana theek nahin

E shooq-e-junoon ab baaz bhi aa, kuch maan bhi le tu mera kaha
Jo jaan ke bhi anjaan bane,gham usko sunana theek nahin

Ab chor bhi do deewana pan, ab bhool bhi jao maazi ko
E 'shams' ye pal pal khilwat mein ashkon ka bahana theek nahin...!

Wo Kehtiii...........hai

Wo Kehti Hai Suno Jana’n Mohabbat Mom Ka Ghar Hai
Tapish Ye Bad Ghumani Ki Kahee’n Pighla Na De Isko
Mai Kehta Hoo’n K Jiss Dil Mai Zara Bhi Bad Ghumani Ho
Waha’n Kuchh Aur Ho Tau Ho Mohabbat Ho Nahi Sakti

Wo Kehti Hai, Sada Aisey Hi Kya Tumm Mujhko Chahogey
K Mai Iss Mai Kami Bilkul Gawara Karr Nahii Sakti
Mai Kehta Hoo’n, Mohabbat Kya Hai Ye Tumne Sikhaya Hai
Mujhe Tumsey Mohabbat K Siwa Kuchh Bhi Nahii Aata

Wo Kehti Hai Judai Se Boht Darta Hai Dill Mera
K Tumko Khudd Se Hatt Kar Daikhna Mumkin Nahii Hai Abb
Mai Kehta Hoo’n Yahi Khadshey Boht Mujhko Satatey Hain
Magar Sach Hai Mohabbat Mai Judai Sath Chalti Hai

Wo Kehti Hai Batao Kya Merey Binn Jee Sakogay Tumm?
Meri Batain Meri Yadain, Meri Aankhain Bhula Do Gay?
Mai Kehta Hoo’n Kabhi Iss Baat Par Socha Nahii Mainey
Agar Ikk Pall Ko Bhi Sochoo’n Tau Sansain Rukne Lagti Hain

Wo Kehti Hai Tumhe Mujhse Mohabbat Iss Qadar Kyu’n Hai
K Mai Ikk Aam Si Larhki Tumhe Kyu’n Khas Lagti Hoo’n
Mai Kehta Hoon Kabhi Khudko Meri Aankho’n Se Tum Daikho
Meri Deevangii Kyu’n Hai Ye Khud Hii Jaan Jaa’ogay

Wo Kehti Hai Mujhe Waraftagee Se Daikhte Kyu’n Ho?
K Mai Khuddko Boht Hi Qeematii Mehsoos Karti Hoon
Mai Kehta Hoon Mata E Jaa’n Boht Anmol Hoti Hai
Tumhe Jab Dekhta Hoon Zindagi Mehsoos Karta Hoon

Wo Kehti Hai Mujhey Alfaaz K Jughnoo Nahi Miltey
Tumhe Batla Sakoo’n Dill Mai Merey Kitni Mohabbat Hai
Mai Kehta Hoon Mohabbat To Nigaho’n Se Chhalakti Hai
Tumhari Khamoshi Mujhse Tumhari Baat Karti Hai

Wo Kehti Hai Batao Na Kisey Khone Se Darte Ho?
Batao Kaun Hai Wo Jisko Ye Mausam Bulate Hain?
Mai Kehta Hoon Ye Meri Shayari Hai Aaina Dill Ka
Zara Daikho Batao Kuchh Tumhe Iss Mai Nazar Aaya

Wo Kehti Hai K Aatif Jee Boht Batain Banatey Ho
Magar Such Hai K Ye Batain Boht Hii Shaad Rakhti Hain
Mai Kehta Hoon Ye Sab Batain, Fasane Ikk Bahana Hain
K Pall Kuchh Zindagani K Tumharey Sath Katt Jayain

Phir Uss K Baad Khamoshi Ka Dilkash Raqs Hota Hai
Nagahain Bolti Hain Aur Labb Khamosh Rehte Hain

Wo Kehti Hai Suno Jana’n Mohabbat Maum Ka Ghar Hai
Tapish Ye Bad Ghumani Ki Kahee’n Pighla Na De Isko
Mai Kehta Hoon K Jiss Dil Mai Zara Bhi Bad Ghumani Ho
Waha’n Kuchh Aur Ho Tau Ho Mohabbat Ho Nahi Sakti

Wo Kehti Hai, Sada Aisey Hi Kya Tumm Mujhko Chahogey
K Mai Iss Mai Kami Bilkul Gawara Karr Nahii Sakti
Mai Kehta Hoon, Mohabbat Kya Hai Ye Tumne Sikhaya Hai
Mujhe Tumsey Mohabbat K Siwa Kuchh Bhi Nahi

Sunday, July 17, 2011

MUJHE TUMSE PYAR HAI........PRIYE

MUJHE TUMSE PYAR HAI........
« »


MAIN TUMSE PYAR KARTA HUN,
NHI INKAAR KARTAA MANN IS SACHCHAIE SE,
NHI TO KYUN SAMNE AATA HAI
KEVAL TUMHARA HI AKSH ?

KYUN KHOJ LETI HAIN AANKHEN
HAJAARON KI BHID ME BHI TUMHE ?

KYUN MADHUR LAGTI HAI
SIRF TUMHARI HI AAWAZ ?

NINDO KO KYUN UDAA LE JATA HAI
TUMHARA EHSAAS ?

JAHAA SE TUM GUJRE
BADHTE HAIN PAG KYUN USI PATH KO ?

BADHTE HAIN HANTH KYUN
 BANDHNE KO TUMHARI HI AAGOSH ME ?

KYUN SAMAA JANA CHAHTA HAI MANN
 TUMHARI HAR SAANS ME ?

YAH MITHYA NHI 'SACH' HAI...
KI MAIN TUMSE PYAR KARTA HU !!!

KI MUJHE TUMSE PYAR HAI !!!

--
RAHUL UJJAINKAR
B-13, Atulanchal Parisar
Janki Nagar, Badi Ukhri
Jabalpur (M. P.)
INDIA. Mobile - +91998-160-1628

आग की भीख

आग की भीख

 

-रामधारी सिंह दिनकर

 

धुँधली हुई दिशाएँ, छाने लगा कुहासा

कुचली हुई शिखा से आने लगा धुआँसा

कोई मुझे बता दे, क्या आज हो रहा है

मुंह को छिपा तिमिर में क्यों तेज सो रहा है

दाता पुकार मेरी, संदीप्ति को जिला दे

बुझती हुई शिखा को संजीवनी पिला दे

प्यारे स्वदेश के हित अँगार माँगता हूँ

चढ़ती जवानियों का श्रृंगार मांगता हूँ

 

बेचैन हैं हवाएँ, सब ओर बेकली है

कोई नहीं बताता, किश्ती किधर चली है

मँझदार है, भँवर है या पास है किनारा?

यह नाश रहा है या सौभाग्य का सितारा?

आकाश पर अनल से लिख दे अदृष्ट मेरा

भगवान, इस तरी को भरमा दे अँधेरा

तमवेधिनी किरण का संधान माँगता हूँ

ध्रुव की कठिन घड़ी में, पहचान माँगता हूँ

 

आगे पहाड़ को पा धारा रुकी हुई है

बलपुंज केसरी की ग्रीवा झुकी हुई है

अग्निस्फुलिंग रज का, बुझ डेर हो रहा है

है रो रही जवानी, अँधेर हो रहा है

निर्वाक है हिमालय, गंगा डरी हुई है

निस्तब्धता निशा की दिन में भरी हुई है

पंचास्यनाद भीषण, विकराल माँगता हूँ

जड़ताविनाश को फिर भूचाल माँगता हूँ

 

मन की बंधी उमंगें असहाय जल रही है

अरमान आरजू की लाशें निकल रही हैं

भीगी खुशी पलों में रातें गुज़ारते हैं

सोती वसुन्धरा जब तुझको पुकारते हैं

इनके लिये कहीं से निर्भीक तेज ला दे

पिघले हुए अनल का इनको अमृत पिला दे

उन्माद, बेकली का उत्थान माँगता हूँ

विस्फोट माँगता हूँ, तूफान माँगता हूँ

 

आँसू भरे दृगों में चिनगारियाँ सजा दे

मेरे शमशान में श्रंगी जरा बजा दे

फिर एक तीर सीनों के आरपार कर दे

हिमशीत प्राण में फिर अंगार स्वच्छ भर दे

आमर्ष को जगाने वाली शिखा नयी दे

अनुभूतियाँ हृदय में दाता, अनलमयी दे

विष का सदा लहू में संचार माँगता हूँ

बेचैन जिन्दगी का मैं प्यार माँगता हूँ

 

ठहरी हुई तरी को ठोकर लगा चला दे

जो राह हो हमारी उसपर दिया जला दे

गति में प्रभंजनों का आवेग फिर सबल दे

इस जाँच की घड़ी में निष्ठा कड़ी, अचल दे

हम दे चुके लहु हैं, तू देवता विभा दे

अपने अनलविशिख से आकाश जगमगा दे

प्यारे स्वदेश के हित वरदान माँगता हूँ

तेरी दया विपद् में भगवान माँगता हूँ/.



--
RAHUL UJJAINKAR
B-13, Atulanchal Parisar
Janki Nagar, Badi Ukhri
Jabalpur (M. P.)
INDIA. Mobile - +91998-160-1628

Saturday, July 16, 2011

कहते हैं तारे गाते हैं

कहते हैं तारे गाते हैं

कहते हैं तारे गाते हैं!
सन्नाटा वसुधा पर छाया,
नभ में हमने कान लगाया,
फिर भी अगणित कंठों का यह राग नहीं हम सुन पाते हैं!
कहते हैं तारे गाते हैं!

स्वर्ग सुना करता यह गाना,
पृथिवी ने तो बस यह जाना,
अगणित ओस-कणों में तारों के नीरव आँसू आते हैं!
कहते हैं तारे गाते हैं!

ऊपर देव तले मानवगण,
नभ में दोनों गायन-रोदन,
राग सदा ऊपर को उठता, आँसू नीचे झर जाते हैं।
कहते हैं तारे गाते हैं!

- बच्चन



--
RAHUL UJJAINKAR
B-13, Atulanchal Parisar
Janki Nagar, Badi Ukhri
Jabalpur (M. P.)
INDIA. Mobile - +91998-160-1628

अँधेरे का दीपक

अँधेरे का दीपक

है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

कल्पना के हाथ से कमनीय जो मंदिर बना था ,

भावना के हाथ से जिसमें वितानों को तना था,

स्वप्न ने अपने करों से था जिसे रुचि से सँवारा,

स्वर्ग के दुष्प्राप्य रंगों से, रसों से जो सना था,

ढह गया वह तो जुटाकर ईंट, पत्थर कंकड़ों को

एक अपनी शांति की कुटिया बनाना कब मना है?

है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

बादलों के अश्रु से धोया गया नभनील नीलम

का बनाया था गया मधुपात्र मनमोहक, मनोरम,

प्रथम उशा की किरण की लालिमासी लाल मदिरा

थी उसी में चमचमाती नव घनों में चंचला सम,

वह अगर टूटा मिलाकर हाथ की दोनो हथेली,

एक निर्मल स्रोत से तृष्णा बुझाना कब मना है?

है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

क्या घड़ी थी एक भी चिंता नहीं थी पास आई,

कालिमा तो दूर, छाया भी पलक पर थी छाई,

आँख से मस्ती झपकती, बातसे मस्ती टपकती,

थी हँसी ऐसी जिसे सुन बादलों ने शर्म खाई,

वह गई तो ले गई उल्लास के आधार माना,

पर अथिरता पर समय की मुसकुराना कब मना है?

है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

हाय, वे उन्माद के झोंके कि जिसमें राग जागा,

वैभवों से फेर आँखें गान का वरदान माँगा,

एक अंतर से ध्वनित हो दूसरे में जो निरन्तर,

भर दिया अंबरअवनि को मत्तता के गीत गागा,

अन्त उनका हो गया तो मन बहलने के लिये ही,

ले अधूरी पंक्ति कोई गुनगुनाना कब मना है?

है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

हाय वे साथी कि चुम्बक लौहसे जो पास आए,

पास क्या आए, हृदय के बीच ही गोया समाए,

दिन कटे ऐसे कि कोई तार वीणा के मिलाकर

एक मीठा और प्यारा ज़िन्दगी का गीत गाए,

वे गए तो सोचकर यह लौटने वाले नहीं वे,

खोज मन का मीत कोई लौ लगाना कब मना है?

है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

क्या हवाएँ थीं कि उजड़ा प्यार का वह आशियाना,

कुछ आया काम तेरा शोर करना, गुल मचाना,

नाश की उन शक्तियों के साथ चलता ज़ोर किसका,

किन्तु निर्माण के प्रतिनिधि, तुझे होगा बताना,

जो बसे हैं वे उजड़ते हैं प्रकृति के जड़ नियम से,

पर किसी उजड़े हुए को फिर बसाना कब मना है?

है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है?

- बच्चन


--
RAHUL UJJAINKAR
B-13, Atulanchal Parisar
Janki Nagar, Badi Ukhri
Jabalpur (M. P.)
INDIA. Mobile - +91998-160-1628