Wednesday, July 12, 2017

कल, मुझे ही तलाशते रहोगे, देखना!

बादलों की तरह किसी दिन,बरस जाओगे देखना
मेरे बिन, तुम एक रोज, तरस जाओगे देखना ।
ये माना!  कि, आज,किसी काबिल नही हूं तेरे।
कल मुझे ही तलाशते रहोगे, हरतरफ, देखना ।
©®राहुल फ़राज़

No comments:

Post a Comment