Sunday, July 10, 2011

बहादुर शाह जफर......

हम आप को कभी खोने नही देंगे !
जुदा होना भी चाहा तो भी होने नही देंगे !
चांदनी रातों मे आये गी मेरी याद !
मेरी यादों के वो पल आप को सोने नही देंगे !!

I JUST WANNA POST SOME SHERS BY BAHADUR SHAH ZAFAR….

बात करनी मुझे मुश्किल कभी ऐसी तो ना थी
जैसी अब है तेरी महफ़िल कभी ऐसी तो ना थी

ले गया छीन के कौन आज तेरा सब्र-ओ-करार
बेकरारी तुझे ऐ दिल कभी ऐसी तो ना थी

चश्म-ए-कातिल मेरी दुश्मन थी हमेशा लेकिन
जैसे अब हो गई कातिल कभी ऐसी तो ना थी

उन कि आंखो ने खुदा जाने किया क्या जादु
के तबियत मेरी माईल कभी ऐसी तो ना थी

अक्स-ए-रुख-ए-यार ने किस से है तुझे चमकाया
ताब तुझ मे माह-ए-कामिल कभी ऐसी तो ना थी

क्या सबब तू जो बिगडता है ज़फ़र से हर बार
खूं तेरी हुर-ए-शमाईल कभी ऐसी तो ना थी

No comments:

Post a Comment