Saturday, August 06, 2011

sub say chup kar mila karo

kabhi dastaras mai jo waqt ho to tamam batain kaha karo
koi atay jatay na dekh lay, humay sub say chup kar mila karo

koi tum bhi taza sitam karo, yehi dard apna naseeb hai
nahi kuch gila, mujhay zakhm dou, kaha kis nay tum say wafa karo

meri jaan suno! zara ghoor say tumhay kah rahi hai ye chandani
chalay jub hawa sar-e-sham hi, to udaas yuu na huwa karo

ye tumharay honto'on par khamshi ka sakoot bhi to bhala nahi
kay tumhara lehja hai khusboo'n sa, gulaab bun kar khila karo

meray rabt say bhi ho munha'rif, meray naam say hi guraiz kyu?
chiray zikar jub bhi chah ka, zara hoslay say suna karo

ye kaha to tha mai nay barha, tumhay yaad hai kisi mour par
kay tum hi to ho meri zindagi, mujhay khud say yuu na juda karo

meray pass jitna nisaab hai inhi chahtoo'n ka hissab hai
ye tumharay gham ki kitaab hai isay dehaan say to parha karo

raho khush tabasm tum sada, mujhay chor dou meray haal par
mujhay ab talash-e-wafa nahi meray wastay na dua karo

1 comment:

  1. कभि दस्तरस मै जो वक्त हो तो तमाम बाते कहा करो
    कोइ आते जाते न देख ले, हमे सब से छुप कर मिल करो

    कोइ तुम भि ताज़ा सितम करो, यहि दर्द अपना नसीब है
    नही कुछ गिला, मुझे ज़ख्म दो, कहा किस ने तुम से वफ़ा करो

    मेरी जान सुनो! ज़र घूर सय तुम्हे कह रहि है ये चान्दनी
    चले जुब हवा सर-ए-शाम ही, तो उदास यु ना हुवा करो

    ये तुम्हारे होटो पर खामोशी क सकूत भी तो भला नही
    कय तुम्हर लेह्ज है खुस्बू'न स, गुलाब बुन कर खिल करो

    मेरय रब्त सय भि हो मुन्ह'रिफ़, मेरय नाम सय हि गुरैज़ क्यु?
    चिरय ज़िकर जुब भि चह क, ज़र होस्लय सय सुन करो

    ये कह तो थ मै नय बर्ह, तुम्हय याद है किसि मौर पर
    कय तुम हि तो हो मेरि ज़िन्दगि, मुझय खुद सय युउ न जुद करो

    मेरय पस्स जित्न निसाब है इन्हि चह्तू'न क हिस्सब है
    ये तुम्हरय घम कि किताब है इसय देहान सय तो पर्ह करो

    रहो खुश तबस्म तुम सद, मुझय चोर दौ मेरय हाल पर
    मुझय अब तलश-ए-वफ़ नहि मेरय वस्तय न दुअ करो

    ReplyDelete